‘जगदीश टाइटलर अपनी एंबेसडर से उतरे और…’ CBI की चार्जशीट में चश्मदीद ने लगाए संगीन आरोप

[ad_1]

अनन्य भटनागरनई दिल्ली. ‘जगदीश टाइटलर कार से बाहर आए और भीड़ को पहले सिखों को मारने के लिए उकसाया…’ 1984 के सिख विरोधी दंगों के मामले में कांग्रेस नेता के खिलाफ केंद्रीय जांच ब्यूरो की चार्जशीट के अनुसार, एक प्रत्यक्षदर्शी ने कथित रूप से एजेंसी को यह बताया. सीएनएन-न्यूज18 के पास इस चार्जशीट की एक कॉपी है.

यह प्रत्यक्षदर्शी एक दुकानदार था, जिसकी दुकान नवंबर 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उनके सिख अंगरक्षकों द्वारा की गई हत्या के बाद सिख विरोधी दंगों में जला दिया गया था. उसके हवासे सीबीआई की चार्जशीट में बताया गया है, ‘जगदीश टाइटलर अपनी सफेद एंबेसडर कार से बाहर आए और भीड़ को उकसाना शुरू कर दिया. उन्होंने भीड़ से कहा कि पहले सिखों को मारो और फिर उनकी दुकानें लूटना.’

ये भी पढ़ें- पुल बंगश हत्याकांड मामले में मिली जगदीश टाइटलर को अग्रिम जमानत, कोर्ट ने कुछ शर्तें भी लगाईं

संबंधित खबरें

इस चार्जशीट में कांग्रेस नेता के ड्राइवर के बेटे का बयान भी शामिल है. सीबीआई ने आरोपपत्र में दलील दी है कि ‘यह दिखाने के लिए रिकॉर्ड पर पर्याप्त सामग्री उपलब्ध है कि जगदीश टाइटलर दंगा करने वाली भीड़ का हिस्सा थे, जो गुरुद्वारा पुल बंगश के पास इकट्ठा हुए थे. इस गैरकानूनी जमावड़े ने निषेधाज्ञा का उल्लंघन किया, भीड़ को भड़काया और सिखों को मारने के लिए उकसाया.’

बता दें कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उनके सिख अंगरक्षकों द्वारा हत्या किए जाने के एक दिन बाद 1 नवंबर, 1984 को यहां पुल बंगश क्षेत्र में 3 लोगों की हत्या कर दी गई थी और एक गुरुद्वारे में आग लगा दी गई थी. इस मामले में कोर्ट ने कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर का जमानती बांड शनिवार को स्वीकार कर लिया है. इस मामले की अगली सुनवाई 11 अगस्त को होगी.

.

[ad_2]

Source link

Leave a Comment