बेंगलुरु, मुंबई, हैदराबाद… बाड़मेर में चुनाव प्रचार के बीच दूसरे राज्यों में रोडशो क्यों कर रहे निर्दलीय प्रत्याशी रविंद्र भाटी? – Why is Ravindra Bhati doing roadshows in other states amid election campaign in Barmer ntc

[ad_1]

देश में चुनावी माहौल है. ऐसे में हर नेता धरातल पर चुनाव प्रचार में लगा हुआ है. चुनावों में नेता प्रचार के हर माध्यम को अपनाते हैं. ऐसे में सोशल मीडिया का भी भरपूर इस्तेमाल किया जाता है. हाल ही में अगर सोशल मीडिया खोल कर देखें तो राजस्थान के एक नेता की कई वीडियोज इन दिनों टॉप ट्रेंड करती रहती हैं. नाम है रविंद्र भाटी. फिलहाल राजस्थान के बाड़मेर जिले की शिव विधानसभा सीट से निर्दलीय विधायक हैं और इस बार के लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार हैं. 
 
रविंद्र सिंह भाटी को सुनने और देखने के लिए उसके रोड शो और सभाओं में हजारों की तादाद में लोग उमड़ रहे हैं. बाड़मेर लोकसभा सीट पर चुनावी ताल ठोककर रविंद्र सिंह भाटी ने मोदी सरकार के मंत्री कैलाश चौधरी को सीधे तौर पर चुनौती दे दी है. नामांकन के दौरान भाटी को सुनने और देखने के लिए लोगों का जनसैलाब सड़कों पर उतर गया था. जब रविंद्र सिंह भाटी के नामांकन के दौरान उमड़ी भीड़ की तस्वीरें अखबारों में छपीं और समाचार चैनलों पर वीडियो फुटेज चले तो यह युवा नेता इस लोकसभा चुनाव के सबसे चर्चित उम्मीदवारों में से एक बना गया. 

दूसरे शहरों में क्यों जा रहे रविंद्र भाटी

भाटी की लोकप्रियता सिर्फ बाड़मेर तक सीमित नहीं है. वे देशभर में घूम रहे हैं और उसके वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब शेयर किए जा रहे हैं. ऐसे में एक समाचार पत्र को दिए इंटरव्यू में उनसे सवाल पूछा गया कि जब चुनाव उन्हें बाड़मेर में लड़ना है तो वे दूसरे नगरों में क्यों जाते हैं. तो इसके जवाब में रविंद्र सिंह भाटी ने कहा, मैं मारवाड़ क्षेत्र से आता हूं. यहां के बहुत लोग प्रवासी के रूप में बाहर रहकर व्यापार करते हैं. अहमदाबाद, सूरत, बेंगलुरु, मुंबई, हैदराबाद- हर जगह हमारे लोग व्यापार की दृष्टि से पहले से हैं. वे चुनावी रूप में भी सक्रिय रहते हैं. क्षेत्र के विकास में भी भागीदारी रहती है. मैं उनसे समर्थन की अपील करने गया था.

सम्बंधित ख़बरें

दरअसल रविंद्र भाटी चुनाव प्रचार के बीच बेंगलुरु, हैदराबाद, मुंबई जैसे बड़े शहरों के दौरा करने गए वहां भी उन्हें जनता का भरपूर प्यार मिला. इसके वीडियो खुद भाटी के सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर किए गए. 

कौन हैं रविंद्र भाटी?

बाड़मेर के छोटे से गांव दूधोड़ा के रहने वाले रविंद्र सिंह भाटी बेहद सामान्य परिवार से आते हैं. उनके पिता शिक्षक हैं. भाटी के परिवार का राजनीति से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं रहा है. रविंद्र सिंह भाटी ने अपनी शुरुआती शिक्षा गांव के पास स्थित सरकारी स्कूल से पूरी की. फिर बाड़मेर शहर के एक स्कूल से इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई पूरी की. वह उच्च शिक्षा के लिए जय नारायण व्यास यूनिवर्सिटी जोधपुर पहुंचे. यहीं पर उन्होंने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता के रूप में छात्र राजनीति में कदम रखा. भाटी ने ग्रेजुएशन के बाद वकालत की पढ़ाई पूरी की.

एबीवीपी ने टिकट नहीं दिया, निर्दलीय जीता छात्रसंघ चुनाव 

साल 2019 में रविंद्र सिंह भाटी ने छात्रसंघ अध्यक्ष पद के लिए एबीवीपी से टिकट की दावेदारी पेश की. लेकिन, एबीवीपी ने भाटी को टिकट न देकर किसी और को अपना प्रत्याशी घोषित किया. इससे नाराज भाटी ने निर्दलीय ताल ठोक दी और यूनिवर्सिटी के 57 साल के इतिहास में निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में छात्रसंघ अध्यक्ष पद का चुनाव जीतने वाले पहले छात्र नेता बने. इसके बाद भाटी ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. कोरोना काल के दौरान चाहे छात्रों की फीस माफी का मुद्दा हो या गहलोत सरकार के कार्यकाल में कॉलेज की जमीन का मुद्दा, भाटी ने छात्र आंदोलन का आगे बढ़कर नेतृत्व किया. छात्र हितों के लिए वह कई बार जेल भी गए. यहां तक कि छात्रों की मांगों को लेकर विधानसभा का घेराव किया. अपनी इसी जुझारू छवि के कारण रविंद्र सिंह ​भाटी छात्रों और युवा वर्ग के चहेते बन गए.

ऐसे बने युवाओं के चहेते

रविंद्र सिंह भाटी तब और चर्चा में आ गए, जब उन्होंने 2022 में अपने दोस्त अरविंद सिंह भाटी को जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव में अध्यक्ष का चुनाव जितवाया. एनएसयूआई ने अरविंद को टिकट नहीं दिया तो, वह SFI से चुनाव लड़े. रविंद्र भाटी ने अपने दोस्त ​अरविंद के चुनाव प्रचार का जिम्मा खुद अपने कंधों पर उठाया और अध्यक्ष पद के लिए हुए इलेक्शन में जीत भी दिलाई. उसी दिन से राजस्थान में इस युवा की चर्चा और ज्यादा तेज हो गई. इसके बाद रविंद्र सिंह भाटी राज्य की राजनीति में उतरे. उन्होंने बीजेपी जॉइन की और 2023 के राजस्थान विधानसभा चुनाव में शिव सीट से टिकट की मांग की.

बीजेपी से बगावत कर निर्दलीय जीता था विधानसभा चुनाव 

लेकिन बीजेपी ने रविंद्र भाटी को टिकट ना देकर संघ की पृष्ठभूमि वाले और उस समय के अपने बाड़मेर जिलाध्यक्ष स्वरूप सिंह खारा को शिव से उम्मीदवार बना दिया. इससे नाराज भाटी ने बीजेपी से बगावत कर शिव विधानसभा से निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया. विधानसभा चुनाव में भाटी के सामने शिव सीट पर सबसे बड़ी चुनौती कांग्रेस के पूर्व मंत्री अमीन खान थे. अमीन खान ने कांग्रेस के सिंबल पर 9 बार पहले चुनाव लड़ा था और 84 साल की उम्र में 10वीं बार ताल ठोक रहे थे. इसके अलावा बीजेपी के स्वरूप सिंह खारा और कांग्रेस के बागी फतेह खान और पूर्व विधायक जालम सिंह रावत जैसे चेहरे इस 26 वर्षीय युवा के सामने थे.

रविंद्र सिंह भाटी ने इन सभी चुनौतियों को पार किया और 4000 वोटों के अंतर से शिव विधानसभा सीट से जीत दर्ज की. उन्होंने बीजेपी उम्मीदवार स्वरूप सिंह खारा की तो जमानत जब्त करवा दी. भाजपा इस बार राजस्थान में क्लीन स्वीप का टारगेट लेकर चल रही थी. लेकिन गत 4 अप्रैल को जब रविंद्र सिंह भाटी ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में बाड़मेर सीट से अपना नामांकन दाखिल किया और उनकी रैली में जनसैलाब उमड़ा तो बीजेपी की टेंशन बढ़ गई. 

भाटी की दावेदारी से भाजपा को नुकसान

भाटी की उम्मीदवारी से बाड़मेर सीट पर अगर किसी को सीधे नुकसान पहुंचता दिख रहा तो वह बीजेपी प्रत्याशी कैलाश चौधरी हैं. चूंकि रविंद्र सिंह एबीवीपी के सदस्य रहे हैं और खुद को वैचारिक रूप से बीजेपी के करीब पाते हैं, इसलिए उनके समर्थक भी बीजेपी के कार्यकर्ता और वोटर ही हैं. ऐसे में भाटी इस सीट पर भाजपा का ही वोट काटते दिख रहे हैं.

[ad_2]

Source link

Leave a Comment