Site icon Newsbaaz

सनातन धर्म को लेकर स्टालिन के बेटे के विवादित बोल; कहा- यह डेंगू और कोरोना की तरह, इसका खात्मा जरूरी


चेन्नई, एएनआई। तमिलनाडु की डीएमके सरकार में मंत्री उदयनिधि स्टालिन (Udhayanidhi Stalin) ने शनिवार को सनातन धर्म को लेकर विवादित टिप्पणी की। उदयनिधि स्टालिन के इस विवादित बयान के बाद सियासत गर्माने के आसार नजर आ रहे हैं। दरअसल, उदयनिधि स्टालिन ने सनातन धर्म की डेंगू, मलेरिया और कोरोना से तुलना की।

‘मलेरिया और कोरोना की तरह सनातन धर्म’

मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के बेटे उदयनिधि ने कहा कि सनातन धर्म डेंगू, मलेरिया और कोरोना की तरह है। जिसका महज विरोध नहीं किया जा सकता बल्कि इसे खत्म किया जाना चाहिए।

बताते चलें, स्टालिन की पार्टी द्रमुक विपक्षी दलों के गठबंधन आइएनडीआइए की प्रमुख घटक है। 

उदयनिधि स्टालिन ने सनातन उन्मूलन कार्यक्रम में यह तमाम टिप्पणिया की। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, उदयनिधि स्टालिन ने कार्यक्रम में बोलने के लिए आयोजकों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि सम्मेलन का नाम ‘सनातन विरोधी सम्मेलन’ के बजाय ‘सनातन उन्मूलन सम्मेलन’ रखा गया, इसकी मैं सराहना करता हूं।

विवादित टिप्पणी

उदयनिधि स्टालिन ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि कुछ चीजों का विरोध नहीं किया जा सकता है बल्कि उसे खत्म कर देना चाहिए। हम डेंगू, मच्छर, मलेरिया और कोरोना का विरोध नहीं कर सकते, हमें इसे खत्म करना है। इसी प्रकार सनातन का विरोध कर उसे खत्म करना चाहिए। इसी बीच उन्होंने सनातन का अर्थ बताया। उन्होंने कहा कि सनातन नाम संस्कृत से है, यह सामाजिक न्याय और समानता के खिलाफ है।

‘कानूनी कार्रवाई का सामना करने को तैयार’

बाद में उन्होंने अपना भाषण एक्स पर भी पोस्ट किया और कहा कि वह किसी भी कानूनी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार हैं और भगवा धमकियों से डरने वाले नहीं हैं। उदयनिधि ने कहा-हम पेरियार, अन्ना और करुणानिधि के समर्थक हैं। सामाजिक न्याय के लिए हम हमेशा अपनी लड़ाई जारी रखेंगे। 

भाजपा ने साधा निशाना

सोशल मीडिया पर द्रमुक नेता के बयान का विरोध शुरू हो गया। भाजपा की आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने कहा,

Posted By Anurag Gupta



Source link

Exit mobile version