aimim chief asaduddin owaisi hit out haryana government for demolition drive in nuh district – Nuh Violence: नूंह में बुलडोजर ऐक्शन पर बिफरे ओवैसी, हरियाणा प्रशासन बोला

[ad_1]

हिंसा प्रभावित नूंह जिले में हरियाणा प्रशासन की बुलडोजर कार्रवाई जारी है। प्रशासन ने रविवार को भी नूंह जिले में एक होटल समेत कई अवैध संरचनाओं को रविवार को ध्वस्त कर दिया। नूंह में बुलडोजर ऐक्शन का चौथा दिन है। जिला प्रशासन का कहना है कि यह कार्रवाई अभी जारी रहेगी। प्रशासन ने अभी 16 अवैध संरचनाओं की पहचान की है, जिन पर बुलडोजर चलेगा। उपमंडलीय मजिस्ट्रेट अश्विनी कुमार का कहना है कि इन्हें अवैध रूप से बनाया गया था। उपद्रवियों ने इनका इस्तेमाल पथराव करने के लिए किया था। इस मसले पर सियासत भी गर्म है। एआईएमआईएम प्रमुख ने इसे एकतरफा कार्रवाई बताया है।

ऑल इंडिया मजिलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने रविवार को नूंह में बुलडोजर ऐक्शन को लेकर भाजपा के नेतृत्व वाली हरियाणा सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने आरोप लगाया कि गरीब मुसलमानों पर एकतरफा कार्रवाई की जा रही है। वहीं अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं। औवेसी ने कहा कि केवल आरोपों के आधार पर सैकड़ों गरीब परिवारों को बेघर कर दिया गया।

ओवैसी ने ट्वीट कर कहा- सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि कोई भी बुलडोजर एक्शन लेने से पहले सरकार को कानून की प्रक्रिया का पालन करना होगा। कोई भी बुलडोजर कार्रवाई बिना बिल्डिंग मालिक को अपनी बात रखने का मौका दिए बगैर नहीं हो सकती है। आलम यह है कि बस आरोपों की बुनियाद पर सैकड़ों गरीब परिवारों को बेघर कर दिया गया। भले ही संघी अपनी बर्बरता पर गर्व करते हों, लेकिन न यह कानूनी तौर पर सही है। इसे इंसानियत के तकाजे से भी सही नहीं माना जा सकता है।

ओवैसी ने आगे लिखा- हरियाणा में केवल गरीब मुसलमानों को निशाना बनाया गया है। सरकार की ओर से एक तरफा कार्रवाई की जा रही है। असली मुल्जिम बंदूकें लेकर खुले आम घूम रहे हैं। उनके आगे तो मनोहर लाल खट्टर सरकार ने अपने घुटने टेक दिए हैं। मिट्टी के मकान और झुग्गी-झोपड़ियों को तोड़ कर अपने-आप को ताकतवर समझना क्या बड़ी बात है?

वहीं जमीयत उलेमा ए हिंद के अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने पुलिस-प्रशासन की भूमिका पर सवाल उठाते हुए कहा कि जमीयत के एक प्रतिनिधिमंडल ने नूंह, मेवात और आसपास के जिलों का दौरा किया है। प्रतिनिधिमंडल की रिपोर्ट के मुताबिक, दंगा प्लानिंग के तहत हुआ जिसमें पुलिस-प्रशासन की भूमिका भी संदेह के घेरे में नजर आ रही है क्योंकि आरोपों की बाबत कई वीडियो वायरल हुए हैं।

इस बीच प्रशासन ने साफ कर दिया है कि हर सूरत में अतिक्रमण हटाए जाएंगे। अवैध निर्माणों पर बुलडोजरी की कार्रवाई जारी रहेगी। उप संभागीय मजिस्ट्रेट कुमार ने कहा- ये अवैध निर्माण थे। तोड़े गए ढांचों के मालिकों को पहले ही नोटिस दिए गए थे। अभियान आगे भी जारी रहेगा। वहीं गुरुग्राम के सेक्टर-57 में मस्जिद जलाने और उसके नायब इमाम की हत्या के मामले में चार युवकों की गिरफ्तारी के विरोध में तिगरा गांव में हिंदू समुदाय की महापंचायत चल रही है। महापंचायत में शामिल लोगों का दावा है कि गिरफ्तार लोगों का हिंसा से कोई लेना-देना नहीं है।

हमें फॉलो करें

ऐप पर पढ़ें



[ad_2]

Source link

Leave a Comment