Barmer Lok Sabha Election 2024 Ravindra Singh Bhati Who Increased Tension Between BJP And Congress Ann

[ad_1]

Rajasthan Lok Sabha Election 2024: राजस्थान की बाड़मेर जैसलमेर लोकसभा सीट पर बीजेपी छोड़ रविंद्र सिंह भाटी ने निर्दलीय चुनावी मैदान में ताल ठोकने के बाद त्रिकोणीय चुनावी मुकाबला होने के चलते हॉट सीट बन चूंकि है.

बाड़मेर की शिव विधानसभा से निर्दलीय विधायक के बाड़मेर जैसलमेर लोकसभा सीट के निर्दलीय प्रत्याशी रविंद्र सिंह भाटी आज दिल्ली से विमान द्वारा जोधपुर एयरपोर्ट पहुंचे. जहां पर उनके समर्थकों ने स्वागत किया. एबीपी न्यूज़ से खास बातचीत करते हुए रविंद्र सिंह भाटी ने कहा कि बीजेपी ने अब बहुत देर कर दी है. नहीं तो हालात अलग होते.

किसी भी पार्टी ने मुझे टिकट नहीं दिया है
बाड़मेर जैसलमेर लोकसभा सीट के प्रत्याशी रविंद्र सिंह भाटी ने एबीपी न्यूज़ से बातचीत करते हुए कहां, ”मेरी कुंडली में संघर्ष लिखा हुआ है. छात्र राजनीति मैं छात्र नेता बनने के लिए भी मैंने संघर्ष किया. उस समय भी मुझे किसी ने टिकट नहीं दिया. वैसा ही विधानसभा के चुनाव में हुआ. किसी भी पार्टी ने मुझे टिकट नहीं दिया है. मुझे जीत मिली, जनता का आशीर्वाद मिला है. कुंडली में संघर्ष के चलते लोकसभा चुनाव में भी मुझे किसी भी पार्टी में टिकट नहीं दिया है. मेरी कुंडली में सिर्फ संघर्ष लिखा हुआ है. वो में कर रहा हूं.”

‘अब जनता ने मन बना लिया है’
निर्दलीय प्रत्याशी रविंद्र सिंह भाटी ने कहा कि बाड़मेर में कई बड़े नेता आ रहे हैं. आज देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी भी पहुंचे हैं. उनका भी स्वागत है. मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा जी व कई नेता वहां पहुंच रहे हैं. बीजेपी ने बहुत देर कर दी है. अब जनता ने मन बना लिया है. थोड़ा पहले करते तो हालात कुछ अलग होते. अब सब कुछ बदल गया है. जो भी नेता बाड़मेर जैसलमेर पहुंच रहे हैं. उन सब का में स्वागत करता हूं. मेरी कांग्रेस या बीजेपी किसी से टक्कर नहीं है. मैं तो अपनी राह पर चल रहा हूं.

‘अब बहुत देर हो चुकी है’
निर्दलीय प्रत्याशी रविंद्र सिंह भाटी ने कहा कि मानवेन्द्र सिंह जसोल के बीजेपी में शामिल होने पर कहा कि वो मेरे बड़े भाई है. वो जहा भी जाए उनका सम्मान है. निर्दलीय प्रत्याशी रविंद्र सिंह भाटिया बीजेपी से चल रही वार्ता के सवाल पर कहा कि अब बहुत देर हो चुकी है और जनता ने मन बना लिया है. बीजेपी की ऑब्जर्वर टीम ने गलत फीडबैक दिया गया.

ये भी पढ़ें: भरतपुर में चप्पे-चप्पे पर पैनी नजर, लोकसभा चुनाव में 17 कंपनियों के साथ 6000 पुलिसकर्मी संभालेंगे मोर्चा

[ad_2]

Source link

Leave a Comment