Cyclone Michaung: 110 किमी/घंटे की रफ्तार से तबाही लाया ‘माइचौंग’ तूफान, चेन्नै को डुबोया, फिर आंध्र तट से टकराया, 13 जानें गईं – cyclone michaung submerged chennai hit andhra 13 lives lost know all about


​5,000 करोड़ रुपये की सहायता मांगी

तम‍िलनाडु के मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन ने बताया कि मूसलाधार बारिश से प्रभावित चेन्नै सहित नौ जिलों में कुल 61,666 राहत शिविर बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि 2015 की बाढ़ (जब AIADMK सत्ता में थी) की तुलना में स्थिति को काफी बेहतर तरीके से संभाला गया। चेन्नै में चरणबद्ध तरीकों से बिजली आपूर्ति को बहाल किया जा रहा है। तमिलनाडु सरकार ने चेन्नै और राज्य के कुछ अन्य जिलों में लगातार बारिश से नुकसान हुए बुनियादी ढांचे और लोगों को राहत देने के लिए 5,000 करोड़ रुपये की अंतरिम केंद्रीय सहायता मांगी है।

​​बारिश रुकने के बाद चेन्नै हवाई अड्डे का हवाई क्षेत्र खुला

बारिश रुकने के बाद चेन्नै के हवाई अड्डे का हवाई क्षेत्र मंगलवार सुबह नौ बजे से खोल दिया गया। अधिकारियों ने कहा कि बारिश थम गई है और चेन्नै हवाई अड्डा क्षेत्र में पानी कम हो गया है। रनवे या टैक्सीवे पर जलजमाव नहीं है। अन्य जगहों से कीचड़ और गंदगी को साफ किया जा रहा है। अधिकारियों ने कहा कि हवाईअड्डे पर फंसे यात्रियों को निकालने के लिए प्रस्थान को प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि हवाई अड्डे पर 21 विमान रुके हैं। टर्मिनलों के अंदर लगभग 1500 यात्री हैं।

​बचाव अभियान के लिए तीन राज्यों में NDRF की 29 टीमें तैनात

चक्रवाती तूफान ‘माइचौंग’ के मद्देनजर बचाव और राहत अभियान चलाने के लिए आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, तेलंगाना और पुडुचेरी में एनडीआरएफ की कुल 29 टीमें तैनात की गई हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। तमिलनाडु में एनडीआरएफ की 14 टीम (चेन्नै में पांच), आंध्र प्रदेश में 11, तेलंगाना में एक और पुडुचेरी में तीन टीम तैनात की गई हैं। एनडीआरएफ के अधिकारी ने बताया, ‘हमारा ध्यान आंध्र प्रदेश पर है क्योंकि चक्रवात वहां समुद्र तट से टकराएगा और हवा की तेज रफ्तार के कारण कई पेड़ और खंभे उखड़ सकते हैं।

​चक्रवात ने कहर बरपाया

अधिकारी ने कहा कि लकड़ी, पोल कटर से लैस और नौकाओं के साथ बचाव दल पहले से ही तमिलनाडु के विभिन्न हिस्सों में मार्ग-साफ करने का काम कर रहे हैं, जहां मंगलवार सुबह चक्रवात ने कहर बरपाया था। एनडीआरएफ के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि कुछ अतिरिक्त टीम को तैयार रखा गया है। राज्य सरकारों से मांग किए जाने पर उन्हें प्रभावित क्षेत्रों में भेजा जाएगा।

​आंध्र में भी भारी बारिश

आंध्र प्रदेश के कई हिस्सों में भारी बारिश जारी है। अमरावती मौसम विज्ञान केंद्र ने बताया कि भीषण चक्रवाती तूफान के केंद्र के पास हवा की तीव्रता 90-100 किलोमीटर प्रति घंटा से 110 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार तक पहुंचने की बात कही गई है। आंकड़े के अनुसार, आंध्र के कोनसीमा, काकीनाडा, कृष्णा, बापटला और प्रकाशम के सात जिलों से 9,454 लोगों को 211 राहत शिविरों में सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। बापटला और प्रकाशम जिलों के छिटपुट स्थानों पर 115.6 मिलीमीटर से 204.4 मिलीमीटर तक भारी से अत्यधिक भारी वर्षा का अनुमान है। इसी तरह अल्लूरी सीतारामाराजू, काकीनाडा, पूर्वी गोदावरी, कडप्पा और नेल्लोर जिलों के कुछ हिस्सों में भारी से बहुत भारी वर्षा का अनुमान है।

​नदियां, नहरे और तालाब उफान पर

तूफान ने दक्षिणी राज्य के प्रभावित जिलों में भारी तबाही मचाई।सड़कें क्षतिग्रस्त हो गईं, नदियां, नहरे और तालाब उफान पर हैं, जिससे राज्य में हजारों एकड़ फसलें डूब गई हैं। इस बीच, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने मंगलवार को चक्रवाती तूफान के कारण पैदा हुए हालात का जायजा लेने के लिए एक समीक्षा बैठक की और इसके प्रभाव तथा राहत उपायों का

हवाई सेवा प्रभाव‍ित

बंगाल की खाड़ी में आए भीषण चक्रवाती तूफान मिचौंग के कारण मंगलवार को विशाखापत्तनम हवाईअड्डे पर परिचालन प्रभावित हुआ और 23 उड़ानें रद्द करनी पड़ीं। हवाईअड्डे के निदेशक ने कहा कि खराब मौसम के कारण उड़ानें रद्द की गई। हैदराबाद, दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, विजयवाड़ा, तिरुपति और चेन्नई जैसे गंतव्यों से आने-जाने वाली उड़ानें रद्द कर दी गई। यात्रियों से आगे की जानकारी के लिए एयरलाइंस से संपर्क करने का अनुरोध किया गया है।



Source link

Leave a Comment