Dengue outbreak increased in Bihar number of Patient crossed 100 in Bhagalpur and Patna Health department alert mode


बिहार में डेंगू का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। राज्य में अभी भागलपुर में सबसे अधिक 105 डेंगू के मरीज हैं। हालांकि अब तक डेंगू से किसी की मौत नहीं हुई है। इस बीच राजधानी पटना में डेंगू पीड़ितों का आंकड़ा सोमवार को 100 के पार हो गया है। सोमवार को बांकीपुर अंचल के चार समेत कुल छह पीड़ित मिले। सरकारी आंकड़े के अनुसार पटना में कुल डेंगू पीड़ितों की संख्या 102 हो गई है। इस बीच बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी डेंगू के मद्देनजर अस्पतालों और ब्लड बैंकों को पूरी तैयारी रखने का निर्देश दिया है। नीतीश कुमार ने अधिकारियों से दो टूक कहा कि डेंगू पीड़ितों के इलाज और बीमारी की रोकथाम में कोई कोताही न हो।

इस बीच सोमवार को स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत एवं नगर विकास एवं आवास विभाग के अपर मुख्य सचिव अरुणीश चावला ने डेंगू के बढ़ते मामले और उसकी रोकथाम के लिए किया जा रहे कार्यों की जानकारी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को दी। मुख्यमंत्री को जानकारी दी गई की एंटी लार्वा का छिड़काव नियमित रूप से किया जा रहा है। राज्य में हो रही बारिश और शहरों में चल रहे निर्माण कार्य को देखते हुए लोगों से विशेष सतर्कता बरतने की अपील की गई है। घरों में या घरों के बाहर आसपास इलाके में जलजमाव न होने देने को कहा गया है। एसी, कूलर बंद होने पर पानी जमा नहीं रहने दें। छतों पर ऐसी कोई वस्तु न रखें जिसमें जलजमाव हो जाए। स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि डेंगू को लेकर सभी ब्लड बैंकों को अलर्ट कर दिया गया है। किसी भी परिस्थिति में प्लेटलेट्स की कमी नहीं हो, यह सुनिश्चित करने को कहा गया है।

वहीं सीएम नीतीश ने डेंगू को लेकर कहा है कि स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से अलर्ट रहे। अस्पतालों में सभी जरूरी चीजों का इंतजाम रखें। अस्पतालों में बेड, चिकित्सा और दवा की कोई कमी नहीं होनी चाहिए। जिलों में भी पदाधिकारी इस पर नजर बनाए रखें ताकि कोई मामला सामने आने के बाद तुरंत इलाज की व्यवस्था की जा सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि अस्पतालों में बेडों की पर्याप्त संख्या उपलब्ध रहे और इसका ध्यान रखा जाए कि मरीजों को इलाज में किसी प्रकार की असुविधा न हो।

पटना में डेंगू पीड़ितों की संख्या 100 के पार
पटना का बांकीपुर अंचल डेंगू का हॉट स्पॉट बना हुआ है। यहां पिछले 15 दिनों में 36 डेंगू पीड़ित मिल चुके हैं। इसके बाद अजीमाबाद अंचल और कंकड़बाग भी सर्वाधिक प्रभावित इलाके में शामिल हो गए हैं। जिला संक्रामक रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ. सुभाष चंद्र प्रसाद ने बताया कि अजीमाबाद अंचल का बाजार समिति इलाका पूरे शहर में डेंगू का सर्वाधिक प्रभावित मोहल्ला बन गया हैं। यहां सघन बस्ती है ही, लगभग हर गली-मोहल्ला जलजमाव से प्रभावित है। जगह-जगह फेंके गए खाली डाभ (हरा नारियल), मछली का खाली डब्बा, पॉलिथिन, जगह-जगह बने गड्ढ़े भी जलजमाव और उेंगू मच्छरोंके पनपने का बड़ा कारण बन गए हैं। बताया कि प्रभावित इलाके में नगर निगम के माध्यम से सघन फॉगिंग और लार्वासाइड का छिड़काव कराया जा रहा है।

अपने से दवा लेना पड़ सकता है भारी : चिकित्सक 
पीएमसीएच के वरीय चिकित्सक डॉ. बीके चौधरी, डॉ. पीएन झा, पारस के पल्मोनरी के हेड डॉ. प्राकश सिन्हा, आईजीआईएमएस के डॉ. मनोज कुमार चौधरी ने बुखार लगने पर अपने से दवा नहीं लेने का सुझाव दिया है। कहा कि इस समय वायरल संक्रमण, टाइफाइड और डेंगू तीनों क प्रकोप शुरू हो चुका है। तीनों संक्रमण में लोगों को तेज बुखार लग रहा है। इनके लक्षण अलग-अलग होते हैं। ऐसे में एक चिकित्सक ही इसकी सही पहचान कर सकता है। तेज बुखार होने पर लोग सामान्य पारासिटामोल छोड़ और कोई दवा नहीं लें। डेंगू में एंटीबायटिक अथवा दर्द निवारक दवाइयां लेने से उसका साइड इफेक्ट हो सकता है और अचानक प्लेटलेट्स घट सकती है। अत: दो दिन से ज्यादा बुखार रहे तो इसकी जांच जरूर करा लेनी चाहिए।

बांकीपुर, कंकड़बाग और अजीमाबाद में अबतक सर्वाधिक संक्रमित 
पटना के बांकीपुर, कंकड़बाग के बाद अब कंकड़बाग भी हॉट स्पॉट बन गया है। सरकारी आंकड़े के अनुसार पिछले डेढ़ माह में 102 संक्रमित पटना में मिल चुके हैं। इनमें 36 बांकीपुर, 20 अजीमाबाद और 16 कंकड़बाग अंचल में मिल चुके हैं। 3इसके अलावा निजी पैथलैब में भी अब बड़ी संख्या में डेंगू संक्रमित मिलने लगे हैं। बाजार समिति, कुम्हरार, पटना सिटी के लोहरवाघाट, दानापुर, स्टैंडरोड, दीघा-आशियानानगर, मसौढ़ी, पटना ग्रामीण, फुलवारीशरीफ, पाटलिपुत्रा अंचल, नया गांव, बांसकोठी, दीघा, गुलजारबाग, इंद्रपुरी, कुम्हरार, एक्जीबिशन रोड, जक्कनपुर आदि जगहों से डेंगू पीड़ित मिल चुके हैं। ग्रामीण क्षेत्र के नौबतपुर, मसौढ़ी, बख्तियारपुर से भी डेंगू पीड़ित लगातार मिल रहे हैं।

हमें फॉलो करें

ऐप पर पढ़ें





Source link

Leave a Comment