Haryana Violence: नलहड़ मंदिर से फिर शुरू होगी जलाभिषेक यात्रा, हिंसा होने से रह गई थी अधूरी

[ad_1]

गुरुग्राम, जागरण संवाददाता। नूंह के नलहड़ में 31 जुलाई को पथराव और हिंसा के बाद अधूरी रह गई ब्रजमंडल धाम जलाभिषेक यात्रा विश्व हिंदू परिषद एक बार फिर पूरी करेगी। 28 अगस्त को जलाभिषेक यात्रा निकाली जा सकती है। इसके लिए आने वाले रविवार को विहिप (विश्व हिंदू परिषद) पदाधिकारी बैठक कर रूपरेखा बनाएंगे।

नूंह के नलहड़ शिव मंदिर से 31 जुलाई को निकाली गई ब्रजमंडल जलाभिषेक यात्रा पर मुस्लिम समुदाय के पथराव के बाद हिंसा भड़क गई थी। हजारों लोग मंदिर में फंस गए और यात्रा स्थगित हो गई थी। हिंसा के दौरान दो होमगार्ड, बजरंग दल कार्यकर्ताओं समेत छह लोगों की मौत हो गई थी।

अब तक पूरी तरह से शांत नहीं हुआ है माहौल

अब तक मेवात में माहौल पूरी तरह शांत नहीं हो पाया है। प्रशासन उपद्रवियों पर कार्रवाई कर रहा है। अब विहिप की तरफ से अधूरी यात्रा को पूरी करने के लिए कहा गया है। विहिप के गुरुग्राम जिलाध्यक्ष अजीत सिंह ने बताया कि परिषद की तरफ से 31 अगस्त से पहले यह यात्रा निकाली जा सकती है। 31 अगस्त तक ही सावन मास है।

वहीं, अभी माहौल पूरी तरह शांत नहीं है, इसलिए इंतजार किया जा रहा है। यह यात्रा सावन मास के अंतिम सोमवार को हो सकती है। 28 अगस्त को अंतिम सोमवार है, संभव है कि यात्रा 28 अगस्त को निकाली जाए। इस यात्रा में ब्रजमंडल के बजरंग दल और विहिप के कार्यकर्ता व पदाधिकारियों समेत अन्य श्रद्धालु भाग लेंगे।

विहिप अधिकारी रूपरेखा तय करेंगे

अजीत सिंह ने बताया कि आने वाले रविवार को विहिप पदाधिकारी बैठककर इसकी रूपरेखा तय करेंगे। इसके बाद कार्यकर्ताओं के लिए घोषणा की जाएगी।

मेवात व आसपास के मंदिरों को भव्य स्वरूप देना है उद्देश्य

गुरुग्राम विहिप जिला मंत्री यशवंत शेखावत ने बताया कि ब्रजमंडल यात्रा हर साल मेवात क्षेत्र में शुरू की जाती है । इस यात्रा का मुख्य उद्देश्य मेवात व आसपास के मंदिरों को भव्य स्वरूप देना है। इस बार कुछ शरारती तत्वों ने ब्रजमंडल जलाभिषेक यात्रा को रोकने का प्रयास किया।

उन्होंने बताया कि सबसे पहले यात्रा नल्हड़ महादेव मंदिर में जलभिषेक करती है। उसके बाद झिरकेश्वर महादेव तथा गांव शृंगार में राधा कृष्ण मंदिर व शृंगेश्वर महादेव मंदिर में दर्शन कर जलभिषेक किया जाता है। यात्रा में न केवल मेवात बल्कि दूर-दूर से आने वाले लोग भी इस यात्रा में भाग लेते हैं।

Posted By Geetarjun

[ad_2]

Source link

Leave a Comment