Home Minister Amit Shah Hit Out On Opposition Over No Confidence Motion Pm Modi To Reply 10 August – अमित शाह ने अविश्वास प्रस्ताव पर विपक्ष की हर गेंद पर लगाया सिक्सर, अब PM मोदी का करना होगा सामना

[ad_1]

दरअसल, सदन में आज अमित शाह ने जैसे तेवर दिखाए हैं, उस हिसाब से आसानी से समझा जा सकता है कि गुरुवार को पीएम मोदी के तेवर उससे भी ज्यादा आक्रामक रहेंगे. मंगलवार को जब बीजेपी संसदीय दल की बैठक हुई थी तब पीएम मोदी ने कहा था कि आप विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव को आखिरी ओवर की तरह ट्रिट करिए. इसमें आपको हर गेंद पर सिक्सर मारना है. आज गृह मंत्री अमित शाह ने विपक्ष के हर वार पर सिक्सर लगाए हैं. अब देखना है कि पीएम मोदी गुरुवार को विपक्ष को कैसे जवाब देंगे.

बहस के दौरान अमित शाह ने मणिपुर (Manipur Issue) पर भी बात की. उन्होंने कहा, “राहुल गांधी ने मणिपुर जाकर नाटक किया. उन्हें वहां राजनीति करनी थी. मणिपुर पर जो हुआ, वो शर्मनाक हैं. लेकिन इस पर राजनीति करना और भी ज्यादा शर्मनाक है.”

राहुल गांधी ने मणिपुर जाकर किया नाटक

अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान राहुल गांधी ने कहा- “हमारे प्रधानमंत्री आज तक मणिपुर नहीं गए. उनके लिए मणिपुर हिंदुस्तान नहीं है. मैं रिलीफ कैंप गया. महिलाओं-बच्चों से बात की. सेना एक दिन में वहां शांति ला सकती है. आप ऐसा नहीं कर रहे हो.” राहुल के इन आरोपों पर अमित शाह ने कहा- “राहुल गांधी मणिपुर गए थे. उन्होंने कहा मुझे चुराचांदपुर जाना है. सेना ने कहा- हेलिकॉप्टर से जाइए. वे नहीं माने. तीन घंटे ऑनलाइन आकर नाटक किया, फिर लौट गए. अगले दिन फिर हेलिकॉप्टर से ही गए. पहले दिन ही वे हेलिकॉप्टर से जा सकते थे, लेकिन उन्हें राजनीति करनी थी.”

हमने मणिपुर में एक्शन लिया

गृहमंत्री ने कहा, “मणिपुर में हुई नस्लीय हिंसा परिस्थितिजन्य है. हमने 4 मई तक ही काफी कुछ कर दिया था. हिंसक घटनाओं में 152 लोग मारे गए. मई में 107 मारे गए. जून-जुलाई में 15, अगस्त में 4.” गृह मंत्री ने 4 मई को दो महिलाओं के साथ बर्बर व्यवहार के वीडियो का भी ज़िक्र किया. उन्होंने कहा कि विपक्ष को वो वीडियो समय पर पुलिस को दे देना चाहिए था, उसके सार्वजनिक होने का इंतज़ार नहीं करना चाहिए था.  

मणिपुर में कैसे शुरू हुआ विवाद?

मणिपुर की आबादी करीब 38 लाख है. यहां तीन प्रमुख समुदाय हैं- मैतेई, नगा और कुकी. मैतई ज्यादातर हिंदू हैं. मैतेई समुदाय की मांग है कि उन्हें भी जनजाति का दर्जा दिया जाए. समुदाय ने इसके लिए मणिपुर हाई कोर्ट में याचिका लगाई. समुदाय की दलील थी कि 1949 में मणिपुर का भारत में विलय हुआ था. उससे पहले उन्हें जनजाति का ही दर्जा मिला हुआ था. इसके बाद हाई कोर्ट ने राज्य सरकार से सिफारिश की कि मैतेई को अनुसूचित जनजाति (ST) में शामिल किया जाए. इसी को लेकर विवाद शुरू हुआ. नगा और कुकी जनजाति मैतेई समुदाय को आरक्षण देने के विरोध में हैं. इनका कहना है कि राज्य की 60 में से 40 विधानसभा सीट पहले से मैतेई बहुल इंफाल घाटी में हैं. ऐसे में ST वर्ग में मैतेई को आरक्षण मिलने से उनके अधिकारों का बंटवारा होगा.

हिंसा में 131 लोग गंवा चुके हैं जान

मणिपुर में 3 मई से कुकी और मैतेई समुदाय के बीच जारी हिंसा में अब तक 131 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं 419 लोग घायल हुए हैं. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, 65000 से अधिक लोग अपना घर छोड़ चुके हैं. आगजनी की 5 हजार से ज्यादा घटनाएं हुई हैं. 6 हजार मामले दर्ज हुए हैं.

ये भी पढ़ें:-

“13 बार लॉन्च किया गया, हर बार फेल”… कलावती की कहानी बता अमित शाह ने राहुल गांधी को घेरा

अविश्वास प्रस्ताव : हर वार पर पलटवार, तीखे तंज… कुछ ऐसे अमित शाह ने विपक्ष को दिया मुंहतोड़ जवाब

 

 “राहुल गांधी ने कहा मोदी वैक्सीन लेना मत”: अमित शाह के आरोप पर कांग्रेस बोली- सबूत दीजिए

 

[ad_2]

Source link

Leave a Comment