Lok Sabha Elections 2024: I Want My Mother To Contest Lok Sabha Elections From Hajipur Seat Said Chirag Paswan | Lok Sabha Elections 2024: चिराग पासवान का बड़ा बयान

[ad_1]

पटना: लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के अध्यक्ष और सांसद चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने बड़ा बयान देते हुए कि वह चाहते हैं कि उनकी मां रीना पासवान हाजीपुर से लोकसभा चुनाव लड़ें जहां से उनके दिवंगत पिता रामविलास पासवान कई दशकों तक सांसद रहे. रविवार (6 अगस्त) को चिराग पासवान संवाददाताओं के सवालों का जवाब दे रहे थे. इससे कुछ घंटे पहले चिराग पासवान ने संकेत दिया था कि वह जमुई से फिर से चुनाव लड़ेंगे. वह मौजूदा लोकसभा में लगातार दूसरी बार इस सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं.

दरअसल, चिराग का उनके चाचा पशुपति कुमार पारस के साथ टकराव है. पारस वर्तमान में हाजीपुर से सांसद हैं और केंद्र में मंत्री हैं. हाजीपुर सीट से पारस की दावेदारी के बारे में पूछे जाने पर चिराग पासवान ने कहा- “एक सांसद होने के नाते वह (पारस) अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं पर उनके पिता (रामविलास पासवान) ने एक लंबा समय हाजीपुर की सेवा में बिताया है और हाजीपुर को अपनी मां के समान माना है. ऐसे में एक पुत्र होने के नाते मेरी जिम्मेदारी बनती है कि उनकी गैरमौजूदगी में मैं वैसे ही हाजीपुर और हाजीपुर के लोगों का ध्यान रखूं जैसा मेरा पिता रखा करते थे. सीट बंटवारा अंतिम रूप से गठबंधन के भीतर ही तय होगा. मैं चाहता हूं मेरी मां वहां से चुनाव लड़ें क्योंकि मेरे पिता के बाद अगर किसी का सबसे पहला अधिकार बनता है तो वह मेरी मां का बनता है.”

चिराग के बयान से शुरू हो सकता है नया विवाद

जमुई सांसद चिराग पासवान के इस बयान से पारस के साथ एक नया विवाद शुरू होने की आशंका है. पारस ने दावा किया है कि उन्होंने अपने दिवंगत भाई के आग्रह पर हाजीपुर से 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ा था. बता दें कि वर्ष 2021 में लोजपा दो हिस्सों में बंट गई थी. पारस के नेतृत्व वाले समूह को राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी के रूप में जाना जाता है, वहीं चिराग के नेतृत्व वाले समूह को लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) कहा जाता है.

हाजीपुर के सांसद पारस ने यह भी दावा किया है कि उनके दिवंगत भाई ने इस बात पर जोर दिया था कि वह इस सीट से चुनाव लड़ें. अब लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के प्रमुख चिराग पासवान इस बात पर जोर देते रहे हैं कि उनकी पार्टी हाजीपुर से चुनाव लड़ेगी. पारस ने जवाब देते हुए आरोप लगाया कि उनका भतीजा जमुई को ‘छोड़ने’ की कोशिश कर रहा है, जहां से उन्होंने 2014 के आम चुनावों में पहली बार चुनाव लड़ा था. हालांकि, चिराग पासवान ने पहले दिन में ऐसी अटकलों पर विराम लगा दिया जब उन्होंने जमुई में एक सभा में कहा- “मैं यहां एक युवा के रूप में आया था और बूढ़ा होने तक यहीं रहूंगा.”

यह भी पढ़ें- Bihar Politics: नई शिक्षक नियमावली और BPSC से होने वाली परीक्षा पर विजय सिन्हा ने कर दी बड़ी मांग, मानेगी नीतीश सरकार?

[ad_2]

Source link

Leave a Comment